जमीयत के सद्भावना सम्मेलन में सर्वधर्म गुरुओं ने लिया हिस्सा देश के वर्तमान हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए साझा संस्कृति की रक्षा का संकल्प लिया

Religion/ Spirituality/ Culture नई दिल्ली

नई दिल्ली जमीयत सद्भावना मंच, जमीयत उलेमा-ए-हिंद के तत्वावधान में आज नई दिल्ली स्थित जमीयत उलेमा-ए-हिंद के मुख्यालय के मदनी हॉल में ‘सद्भावना सम्मेलन‘ का आयोजन किया गया। सम्मेलन की अध्यक्षता जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी ने की।
सम्मेलन में विशेष तौर पर भारतीय सर्वधर्म संसद के राष्ट्रीय संयोजक सुशील जी महाराज, अहिंसा विश्व भारती के अध्यक्ष आचार्य लोकेश मुनि महाराज, रविदास समाज के प्रसिद्ध धर्मगुरु स्वामी वीर सिंह हितकारी महाराज, बौद्ध धर्मगुरु आचार्य यशी फुंत्सोक, पादरी मोरेश पारकर इत्यादि ने भाग लिया। इस अवसर पर सभी ने संयुक्त रूप से देश की वर्तमान स्थिति पर चिंता व्यक्त की और कहा कि आज की स्थिति में भारत की साझा संस्कृति की रक्षा करना सभी की जिम्मेदारी है। आज देश में नफरत फैलाने वाले शक्तियां सक्रिय हैं और शांतिप्रिय लोगों को दरकिनार किया जा रहा है। इसलिए एकजुट होकर यह दिखाना है कि जीत हमेशा शांति की हुई है।
इस अवसर पर अपने विशेष संबोधन में सर्वधर्म संसद के राष्ट्रीय संयोजक गोस्वामी सुशीलजी महाराज ने कहा कि आज भारत एक ऐसे मोड़ पर है जहां इस तरह के कार्यक्रमों की पहले से कहीं ज्यादा आवश्यकता है। आज लड़ाई हमारी साझा संस्कृति को बचाने की है। आजकल टीवी पर जो बहस हो रही है, उस पर सख्त नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि मीडिया ने समाज में जहर घोल दिया है जिससे देश में सांप्रदायिकता का माहौल खतरनाक स्तर तक पैदा हो गया है। लेकिन याद रखें कि जो देश को तोड़ना चाहते हैं वे कभी सफल नहीं होंगे। यह भारत सबका है और हमेशा सबका रहेगा। इस देश के लिए सभी ने कुर्बानी दी है, जिसकी प्रतीक सौ साल पुरानी जमीयत उलेमा-ए-हिंद है। इसलिए कोई किसी की राष्ट्रभक्ति पर सवाल नहीं उठा सकता। उन्होंने कहा कि हम सर्वधर्म संसद की ओर से जमीयत के इस अभियान का पूरी तरह से समर्थन करते हैं।
जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि यही भारत की आत्मा है जिसके कारण हम सब यहां एकत्रित हुए हैं। आज जो परिस्थितियां हैं, उसका नुकसान किसी एक समुदाय को नहीं बल्कि देश की होगा। एक तरफ हमारा सपना है कि भारत विश्व गुरु बने, दूसरी तरफ एक ऐसी शक्ति है जो भारत की विरासत और उसकी पहचान को लगातार खराब कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारे देश में अक्षम लोगों के बयानों को मुख्य हेडलाइन बनाया जाता है लेकिन जो दोस्ती और न्याय की बात करते हैं, उनको किनारे किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नफरत का जवाब नफरत से नहीं बल्कि प्यार से दिया जा सकता है। हालिया जो घटनाएं हुईं, उसमें घृणा का जवाब घृणा से देने का प्रयास किया गया जो काफी निराशाजनक है। न इस्लाम और न ही मानवता में इसका कोई स्थान है। मुझे बहुत खुशी हो रही है कि भारत की आत्मा और सभी धर्मों के गुरु यहां ऐसे कठिन समय में एकत्र हुए हैं। हम उनके आभारी हैं। हमें इस संदेश को आगे ले जाना है और उन लोगों तक पहुंचाना है जो गलतफहमी, भ्रम और घृणा के माहौल का शिकार हुए हैं, और जो इससे प्रभावित होकर नफरत फैलाने वालों के अगुवाकार बन गए हैं।
आचार्य लोकेश मुनि ने कहा कि धर्म जोड़ना सिखाता है, तोड़ना नहीं। मौलाना मदनी साहब देश को बनाने वाले इंजीनियर हैं। हम उनसे आशा करते हैं कि आज उन्होंने जो कार्यक्रम शुरू किया है, उसे देशभर में ले जाएंगे। अगला कार्यक्रम काशी, अयोध्या और अजमेर में हो और इस कार्यक्रम केवल खानापुरी के रूप में नहीं किया जाना चाहिए बल्कि यहां से जो संदेश जाए, वह हर घर तक पहुंचे। उन्होंने कहा कि मतभेद जरूर हों लेकिन मनभेद नहीं होना चाहिए। उन्होंने सोशल मीडिया पर नफरत का कचरा डालने पर दुख व्यक्त किया और कहा कि इस कचरे साफ करने की बहुत आवश्यकता है।
रविदास समाज के प्रसिद्ध धर्मगुरु स्वामी वीर सिंह हितकारी महाराज ने कहा कि मनुष्य की मनुष्य से शत्रुता न हो, क्योंकि मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना। उन्होंने मौलाना मदनी साहब की प्रशंसा करते हुए कहा कि भारत के निर्माण की जो नींव आज रखी गई है, उससे भारत में बराबरी के अधिकार की मांग करने वालों को प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने सत्तारूढ़ दल की ओर इशारा करते हुए कहा कि यह देश हम सबका है, इसलिए किसी एक का नहीं हो सकता।
बौद्ध धर्मगुरु आचार्य यशी फुंत्सोक ने कहा कि सभी धर्मगुरु मिलकर धार्मिक घृणा को समाप्त कर सकते हैं। मानवता के सम्मान का दायरा व्यापक होना चाहिए। भारत में ही अधिकांश धर्म अस्तित्व में आए हैं, इसलिए हम सब एक हैं। उन्होंने कहा कि हालांकि हमारी पहचान अलग-अलग है लेकिन यहां अनंत किसी को प्राप्त नहीं है। परलोक में केवल भलाई ही काम आएगी।
सरदार यूनाईटेड सिख के मनप्रीत सिंह जी ने कहा कि मीडिया को यह अधिकार नहीं है कि किसी भी व्यक्ति को बुलाकर धर्मगुरु के रूप में प्रस्तुत करे। उन्होंने गुरु नानक जी का वर्णन करते हुए कहा कि हम किसी धर्म के विरुद्ध नहीं बल्कि धर्म के नाम पर अत्याचार करने वालों के विरुद्ध हैं। सबसे महत्वपूर्ण धर्म है, आपसी प्यार है। आज हम सब जुड़े हैं, इससे अच्छा दिन कोई नहीं हो सकता।
पादरी मौरिस पारकरजी ने कहा कि जो धर्म के कारण सताए गए हैं, वे बधाई के पात्र हैं, क्योंकि उनको खुदा, बादशाहत का इनाम देगा। खुदा ने दुनिया बनाकर हमारे हाथों में दिया और कहा कि इसे चलाओ। इसलिए हमें दुनिया को चलाने की जरूरत है, लड़ने की जरूरत नहीं है। खुदा कभी भी गलत का साथ नहीं देता।
एसएमटीयू के प्रो वाइस चांसलर डॉ. आर विजय सर्वस्थी ने सभी धर्मों को सलाम करने के साथ अपने भाषण का आरंभ करते हुए कहा कि हमारे परिचय के लिए इतना ही काफी है कि मैं एक इंसान हूं। आज इस मंच पर एकता का दृष्य है। प्रेम ही सबसे बड़ी चीज है। इसलिए प्यार बांटना चाहिए। अहिंसा पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि सोच बदलो, देश बदलेगा।
कार्यक्रम के आरंभ में जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन कासमी ने कहा कि मेरे दिल में इसका बहुत सम्मान है कि आपने बहुत ही कठिन समय में दिलों को जोड़ने का संकल्प लिया जो इतना आसान नहीं है। लेकिन कोई संकल्प पाने की आशा में नहीं लिया जाता बल्कि खुद को मिटाने की उम्मीद से लिया जाता है। हम सभी अपनी मातृभूमि, इस धरती और देश के लिए हर तरीके से खुद को मिटाने के लिए तैयार हैं और यही वह शक्ति है जो भारत को जोड़ती है। उन्होंने कहा कि सदियों से भारत की मिट्टी में साम्प्रदायिक एकता बसी हुई है। भारत में भांति-भांति की भाषाएं और बोलियां बोली जाती हैं। यहां रंग-बिरंगी सभ्यताएं हैं। विभिन्न जातियों और धर्म के अनुयायी हैं। इसी अनेकता में एकता छिपी हुई है। हमारे संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद का 100 साल का इतिहास है। इसकी शांति, एकता और सद्भावना की विचारधारा की बात करें तो यह 23 नवंबर, 1919 से ही राष्ट्रीय एकता और शांति एवं भाईचारे की समर्थक रही है। इसलिए स्वतंत्रता संग्राम में गांधीजी का साथ दिया और उनके कदम से कदम मिलाते हुए असाधारण कारनामे किए।
इन वक्ताओं के अलावा जमीयत उलेमा-ए-हिंद के सचिव मौलाना नियाज अहमद फारूकी, डॉ. सिंधिया जी, स्वामी विवेक मुनि जी, रमेश कुमार पासी, रिजवान मंसूरी, अल्पसंख्यक आयोग दिल्ली के चेयरमैन जाकिर खां, केके शर्मा, मुकेश जैन, रमेश शर्मा, रजनीश त्यागी राज, डॉ. संदीप जी, डॉ. सुरेश जी, नरेंद्र शर्मा जी, इशरत मामा, दबू अरोड़ा, मौलाना दाऊद अमीनी, प्रतीम सिंह जी, डॉ. भाटी जी, नरेंद्र तनेजा, अरुण गोस्वामी, डॉ. अख्तर, नरगिस खान, इब्राहीम खां, सुशील खन्ना इत्यादि ने भी अपने विचार व्यक्त किए या कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम का संचालन जमीयत सद्भावना मंच के संयोजक मौलाना जावेद सिद्दीकी कासमी ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *