बीमारी कोई भी झोलाछाप कर रहे ड्रिप से इलाज

उत्तर प्रदेश मैनपुरी

कुरावली/मैनपुरी। एक तरफ जहां लोग विभिन्न बीमारी से ग्रसित होते जा रहे है। क्षेत्र में सबसे ज्यादा प्रकोप बुखार का है। वहीं दूसरी तरफ ग्रामीण क्षेत्र में डॉक्टर की कमी भी परेशानी का कारण बनी हुई है। डॉक्टर न होने के कारण लोग मजबूरी में ही इलाज के लिए झोलाछाप का सहारा लेते है। इससे स्थिति और बिगड़ जाती है। समय से समुचित इलाज न मिलने पर कई बार मरीज को अपनी जान तक का जोखिन उठाना पड़ता है।

कस्बा और क्षेत्र के गांवो में सैंकड़ो झोलाछाप सक्रिय है। इलाज के नाम पर लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ और आर्थिक शोषण किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग केवल औपचारिकता निभा रहा है। यह बात झोलाछाप डॉक्टर भी अच्छी तरह जानते हैं। यही कारण है कि उन्हें किसी तरह का खौफ नहीं है। इनके गलत इलाज की वजह से कई बार मरीजों की जान तक पर बन आती है। बीमारियों का मौसम आते ही उनकी सक्रियता और बढ़ गई है। हल्के बुखार को भी गंभीर बीमारी का खौफ दिखाकर ये झोलाछाप अधिक से अधिक रुपये ऐंठने में लगे हुए हैं। इस समय बुखार के अधिकांश मामलों में वायरल संक्रमण है। जिसमें मामूली दवाएं तथा अधिक से अधिक आराम व खान-पान में सावधानी की जरूरत होती है। अधिक क्षमता की दवाएं नुकसान पहुंचा सकती हैं। लेकिन इन झोलाछापों के यहां इलाज की शुरूआत ही इंजेक्शन और ड्रिप से होती है। बुखार की हालत में किसी मरीज के पहुंचते ही ये खाने की दवा बाद में एक-दो इंजेक्शन पहले लगाते हैं। मरीज परेशानी अधिक बताए तो तुरंत बैंच पर लिटाकर ड्रिप चढ़ा दी जाती है।

ग्रामीण क्षेत्रों में फैला है झोलाछापों का मकड़जाल
ग्रामीण क्षेत्रों में तो जगह-जगह झोलाछापों के अड्डे बने ही हैं। कुरावली कस्बा में भी कमी नहीं है। कहीं एक-दो तो कहीं आधा दर्जन तक फर्जी क्लीनिक चल रहे हैं। कहीं-कहीं तो किराये के भवन लेकर पूरे नर्सिंग होम बना लिए गए हैं। जहां इलाज के अलावा पैथोलॉजी जांच, एक्सरे सहित कई इलाज होते है।

क्या बोले सीएमओ मैनपुरी
अभी कार्यालय में कोई दूसरा कार्य चल रहा है। जल्द ही झोलाछापो के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी। इस बार झोलाछापो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।- डॉ. पीपी सिंह सीएमओ मैनपुरी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *