अधिकारी पीड़ित की शिकायत गंभीरता से सुने- जयवीर सिंह

उत्तर प्रदेश मैनपुरी

संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री ने सुना पीड़ितो का दर्द

मैनपुरी। पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने कहा कि योगी सरकार ने फरियादियों की शिकायतों का हर संभव निस्तारण करने का संकल्प ले रखा है। अधिकारी और कर्मचारी पूरे मनोयोग और गंभीरता से शिकायतें सुनें और उनका निस्तारण कराएं। शिकायतों के निस्तारण में कुछ अधिकारियों की ओर से गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है। ये अधिकारी सुधार कर लें अन्यथा उन पर कार्रवाई होगी। शनिवार को मैनपुरी आए पर्यटन मंत्री ने शिविर कार्यालय पर फरियादियों की शिकायतें सुनी।
कैबिनेट मंत्री सुबह कैंप कार्यालय पर पहुंचे। वहां पहले से भीड़ उनका इंतजार कर रही थी। कार्यालय पहुंचते ही उन्होंने फरियादियों की शिकायतें सुननी शुरू की। लगभग दो घंटे शिकायतें सुनने के दौरान उनके पास 55 शिकायतें पहुंची। इनमें से ज्यादातर शिकायतों का पर्यटन मंत्री ने निस्तारण किया। इस दौरान किसी ने जमीन पर कब्जे की शिकायत की तो किसी ने आवास न मिलने का रोना रोया। मंत्री को यह भी बताया गया कि एसडीएम, तहसीलदार, लेखपाल, थानेदार और सिपाही शिकायतों के निस्तारण में लापरवाही करते हैं। इस पर उन्होंने मौके से ही संबंधित अधिकारियों से बात की और शिकायतों को पूरी गंभीरता से लेने की नसीहत दी।

भांवत चौराहे पर जल्द हो मूर्ति की स्थापना
अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के राष्ट्रीय संगठन मंत्री धीरज श्रीवास्तव, जिलाध्यक्ष विशाल सक्सेना के साथ संगठन के प्रतिनिधि मंडल ने पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह से मुलाकात की और शहर के भांवत चौराहे पर प्रस्तावित सुभाषचंद्र बोस की मूर्ति जल्द लगवाने की मांग की। कहा कि इस मूर्ति की स्थापना होने से मैनपुरी का गौरव और बढ़ जाएगा। इस अवसर पर अमरदीप सक्सेना मोना दलेला, चित्रांश, सौरभ, राकेश जौहरी, संजीव प्रधान, अशोक सक्सेना, रत्नेश जौहरी, विपिन सक्सेना, गौरव सक्सेना, उमेश सक्सेना, डीसी हजेला आदि मौजूद रहे।

तालाब पर अबैध कब्जा की शिकायत
मैनपुरी क्षेत्र के ग्राम अस्यौली में तालाब की जमीन पर कब्जे की शिकायत एक बार फिर से पर्यटन मंत्री से की गई है। गांव अस्यौली निवासी गिरीशचंद्र, रमेशचंद आदि ने शनिवार को पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह को शिकायती पत्र दिया। आरोप लगाया कि उनके गांव में वर्ष 1986 में सौ एकड़ तालाब की जमीन को बंजर खाता में दर्ज कराकर 71 लोगों द्वारा पट्टा करा लिया गया था। जबकि तालाब की जमीन का पट्टा नहीं हो हो सकता है। मौके पर सिर्फ एक एकड़ का ही तालाब शेष बचा है। इस मामले में 2011 में तत्कालीन डीएम पट्टे खारिज भी कर चुके हैं। लेकिन दबंग कब्जा नहीं छोड़ रहे। कुछ कब्जेधारकों ने हाईकोर्ट से स्टे भी लिया है। मामले में मंत्री जयवीर सिंह ने तहसीलदार मैनपुरी को तत्काल जांच पूरी कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *