अखिलेश यादव से मिले जयंत चौधरी, बोले-जारी रहेगा गठबंधन

Politics उत्तर प्रदेश लखनऊ
रिपोर्ट — भरत सेठी 
लखनऊ । उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने वाले राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी शनिवार को लखनऊ में थे। जयंत चौधरी ने लखनऊ में रालोद कार्यालय में नवनिर्वाचित आठ विधायकों तथा पार्टी के नेताओं के साथ बैठक करने के बाद समाजवादी पार्टी के कार्यालय में जाकर अखिलेश यादव से भी भेंट की।जयंत चौधरी शनिवार को अपनी पार्टी विधायकों के साथ बैठक करने के बाद सीधा विक्रमादित्य मार्ग पर समाजवादी पार्टी के कार्यालय पहुंचे। यहां पर उनकी अखिलेश यादव से करीब 45 मिनट तक वार्ता हुई। जयंत चौधरी ने इस भेंट के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के उत्तर प्रदेश विधानसभा सदस्य बने रहने के फैसले का स्वागत किया। जयंत चौधरी ने कहा कि हम अखिलेश यादव के फैसले का सम्मान करते हैं। उन्होंने अब विधानसभा में रहने का जो फैसला लिया है, उसके दूरगामी परिणाम होंगे।जयंत ने कहा कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अच्छा फैसला किया है। विधानसभा में विपक्ष मजबूती के साथ सत्ता पक्ष को घेरने का काम करेगा। उन्होंने सपा विधायक दल का नेता चुने जाने पर अखिलेश को बधाई दी। जयंत चौधरी वहां पर अपनी पार्टी के विधायकों के साथ पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि हम तो आगे भी अखिलेश यादव के साथ ही रहेंगे और गठबंधन का दायरा आगे चलकर और बढ़ेगा।इससे पहले राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी ने शनिवार को पार्टी के प्रदेश कार्यालय में नवनिर्वाचित विधायकों के साथ बैठक की। सभी आठ विधायक बैठक में मौजूद रहे। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में जयंत चौधरी ने कहा कि हम चुनाव परिणामों की नए सिरे से समीक्षा कर रहे हैं। किसानों के लिए संघर्ष और पिछड़ों को सामाजिक न्याय दिलाने की लड़ाई जारी रहेगी। पार्टी का मुख्य फोकस युवाओं और महिलाओं पर होगा।उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के साथ वह लंबी पारी खेलेंगे और लोकसभा चुनाव भी साथ मिलकर लड़ेंगे। टिकट बेचने का आरोप लगाकर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से डाक्टर मसूद अहमद के इस्तीफा देने के सवाल पर जयंत ने कहा कि उनके आरोप बेबुनियाद हैं। मैंने एक समिति गठित की है जो जल्द नए प्रदेश अध्यक्ष का चयन करेगी। पार्टी ने जनता का फीडबैक लेने के लिए ईमेल आईडी जारी की है और इस पर बड़ी संख्या में लोगों के सुझाव और शिकायतें मिल रही हैं। सभी विधायकों को निर्देश दिए गए हैं कि वह जनता की समस्याओं का निराकरण कराने के लिए पूरी ताकत से कार्य करें। राज्यसभा चुनाव में क्या वह सपा और आरएलडी गठबंधन के प्रत्याशी होंगे। इस सवाल के जवाब में जयंत ने कहा कि चुनाव अभी जुलाई-अगस्त में है और इस पर अभी कुछ बोलना जल्दबाजी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *