उपजिलाधिकारी व सीओ की संयुक्त टीम ने नकली फैक्ट्री का किया भंडाफोड़

Crime उत्तर प्रदेश कानपुर देहात

कानपुर देहात(सिकन्दरा) तहसील क्षेत्र में चल रहे नकली फैक्ट्री के कारोबार का उपजिलाधिकारी और क्षेत्राधिकारी ने रात में मुखबिर की सूचना पर किया भंडाफोड़,जिसमें दो मुलजिमों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। बताते चले की सिकन्दरा एसडीएम महेंद्र कुमार को मुखबिर ने सूचना दी की क्षेत्र में यूरिया सलूशन की बाल्टियों का काम जोरों पर चल रहा है जिसको लेकर देर रात एसडीएम महेंद्र कुमार और क्षेत्राधिकारी रविकांत गोंड की संयुक्त टीम ने आलमपुर हाइवे पर जांच करने पहुंची तो पता चला की न्यू अमर ढाबा के पास एक मकान में अवैध कारोबार चल रहा था जिसमें ब्रांडेड कंपनी के नाम से नकली माल तैयार करके बेचा जा रहा था। इस दौरान एक कमरे में 2 सैकड़ा से अधिक GUlF(ADBLUE)AL, TATA, Zentex, Eicher, Mahindra, Bharat Benz की खाली बाल्टियां बरामद की तो पता चला की अवैध तरीके से मैन्युफैक्चरिंग की जा रही थी। जहां से एक अभियुक्त मनोज कुमार पुत्र विश्वनाथ निवासी आलमपुर को नकली माल के साथ पकड़ा गया, एसडीएम के पूछताछ करने पर दूसरे दुकानदार कौशल किशोर को पकड़ा जिनके पास से मनोज द्वारा भेजी गई कुछ बाल्टियां भी बरामद हुई इस दौरान मनोज कुमार ने बताया की उसके द्वारा इंडिया की ब्रांडेड कंपनियों के नाम से खाली बाल्टियां बड़े पैमाने पर बसों द्वारा बाहर से मंगाया जाता है और बाद में पैक करके उन्हे बड़े बड़े वाहनों में डाले जाने वाला यूरिया सलूशन भरकर बेच दिया जाता है। वहीं एसडीएम सिकन्दरा महेंद्र कुमार ने संबंधित मामले की जानकारी जिलाधिकारी कानपुर देहात जितेंद्र प्रताप सिंह को भी दी जिस पर जिलाधिकारी के निर्देश के बाद अभियुक्त मनोज कुमार और कौशल किशोर को भरी हुई पार्टियों के साथ कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया। क्षेत्राधिकारी रविकांत गोंड के द्वारा गोल्फ कंपनी को सूचना दी गयी। जिसके बाद गोल्फ कंपनी से आए इंजीनियर पंकज गुप्ता की तहरीर पर दोनों अभियुक्तों के खिलाफ दंड अपराध की धारा 420, 486, 487 व कॉपीराइट एक्ट की धारा 63 के तहत मुकदमा लिखकर अभियुक्तों को जेल भेज दिया गया। इस मौके पर थाना प्रभारी राम गोविन्द मिश्रा,दारोगा राम किशोर सिंह व अन्य मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *