कोबरा देख राजा बलवंत सिंह कॉलेज में फैली दहशत

आगरा उत्तर प्रदेश स्थानीय समाचार

आगरा/ कागारौल । आगरा के आर.बी.एस (राजा बलवंत सिंह) कॉलेज बिचपुरी कैंपस के फूड स्टोर रूम के अंदर से वाइल्डलाइफ एसओएस रैपिड रिस्पांस यूनिट ने 5 फुट लंबे कोबरा सांप का रेस्क्यू किया। बाद में सांप को वापस जंगल में छोड़ दिया गया। शनिवार सुबह वाइल्डलाइफ एसओएस टीम को उनके हेल्पलाइन नंबर (+91-9917109666) पर एक कोबरा सांप के बारे में आपातकालीन कॉल आया जो आगरा के राजा बलवंत सिंह कॉलेज बिचपुरी कैंपस के अंदर कृषि फार्म के स्टोर रूम में देखा गया था। कोबरा को जूट की बोरियों के ढेर के बीच देखा गया। जिसके बाद वहाँ मौजूद कर्मचारियों के बीच दहशत का माहौल पैदा हो गया। वन्यजीव संरक्षण एनजीओ की दो सदस्यीय टीम स्थान पर पहुंची और बचाव अभियान शुरू किया। पहले तो सांप का पता लगाना मुश्किल था,क्योंकि स्टोर रूम अनाज की बोरियों से भरा था।

वाइल्डलाइफ एसओएस रैपिड रिस्पांस यूनिट ने एक घंटे के बचाव अभियान में सावधानी से कोबरा को बाहर निकाला।आर.बी.एस कॉलेज के कृषि फार्म के प्रबंधक नीरज शुक्ला ने कहा हमारे कर्मचारियों ने शुक्रवार शाम कोबरा को स्टोर रूम के अंदर घूमते देखा था। सुबह में हमने सोचा कि सांप अपने आप स्टोर रूम से बाहर निकल जाएगा। लेकिन अंत में सांप को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए हमें वाइल्डलाइफ एसओएस हेल्पलाइन से संपर्क करना पड़ा।वाइल्डलाइफ एसओएस के सह-संस्थापक और सीईओ कार्तिक सत्यनारायण ने कहा जहरीले सांपों को पकड़ने के लिए धैर्य और कौशल की आवश्यकता होती है और हमारे पास प्रशिक्षित रेस्क्यू टीम हैं। जो इस तरह के ऑपरेशन को संभालने में अनुभवी हैं। हमें यह देखकर खुशी हो रही है कि अधिक से अधिक लोग मामलों को अपने हाथों में लेने के बजाय ऐसी स्थितियों में वाइल्डलाइफ एसओएस को कॉल करने का एक सचेत निर्णय लेने का विकल्प चुन रहे हैं।वाइल्डलाइफ एसओएस के डायरेक्टर कंजरवेशन प्रोजेक्ट्स बैजूराज एम.वी ने कहा हम अक्सर इस क्षेत्र में जंगली जानवरों को बचाने का काम करते हैं। बढ़ते शहरीकरण निर्माण कम होते जंगल और शिकार में कमी के कारण, सांप जैसे वन्यजीव प्रजातियां अक्सर भोजन की तलाश में मानव बस्तियों में जाने के लिए मजबूर हो जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *