वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुके रचित जादौन सपनों को छूने में बस एक कदम दूर

Entertainment Life Style उत्तर प्रदेश
अलीगढ़। टैटू आर्टिस्ट का काम उतना आसान नहीं होता जितना दूर से लगता है। इस क्षेत्र में सफल वही होता है जिसके पास क्रिएटिव माइंड हो। इसी क्रिएटिविटी के दम पर अलीगढ़ निवासी रचित जादौन ने 21 जनवरी, 2022 को हार्वर्ड वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर देश और दुनिया के लोगों को चौंका दिया। इस उपलब्धि को हासिल करने के बाद से वो रातों रात टैटू स्टार बन चुके हैं।
ट्रेंड में है टैटू 
अब मार्केट में उनकी डिमांड इतनी बढ़ गई है कि वो सभी के लिए समय नहीं निकाल पाते। इतना ही नहीं, वह कई सेलिब्रिटीज का टैटू, पेंटिंग और स्केच बना चुके हैं। रचित बताते हैं, अब मैं खुद के सपनों से बस एक कदम दूर हूं। दरअसल, रचित जादौन ने हाल ही में फास्टेस्ट रियलिस्टिक स्केच बनाकर हार्वर्ड वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम किया है। वह सबसे कम समय यानी दो घंटा 43 मिनट में रियलिस्टिक स्केच बनाकर दुनिया के सबसे तेज टैटू आर्टिस्ट बन गए हैं। ऐसा कर घरवालों सहित देश  का नाम रौशन किया है। यह सभी के लिए गर्व का विषय है।
सेलिब्रिटी भी हैं उनके मुरीद 
हार्वर्ड वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम से दर्ज करने से पहले ही वह कई हस्तियों के स्केच बना चुके हैं। उनके इस सूची में क्रिकेटर निखिल गंगटा, आईपीएल प्लेयर प्रियम गर्ग, पारस डोगरा और रिंकू सिंह, गायक जावेद अली व अन्य शामिल हैं। भारतीय क्रिकेटर प्रियम गर्ग और बॉलीवुड सिंगर जावेद अली तो उनके इस कला के मुरीद हैं।
7 साल की उम्र में लग गया था टैटू का चस्का
22 वर्षीय रचित जादौन अलीगढ़ जिले के किशनपुर के रहने वाले हैं। 7 साल की उम्र में ही उन्हें टैटू आर्टिस्ट बनने का चस्का लग गया था। सपने के पीछे भागते—भागते रचित ने अपना स्कूल भी छोड़ दिया। आज वह एक पेशेवर टैटू आर्टिस्ट हैं। वह स्कूल में टाइम देने के बदले स्केच व टैटू बनाने की क्लासेज लेने लगे हैं। वह मानते हैं कि ऐसा करना उनके जीवन का बड़ा फैसला था। रचित जादौन कहते हैं, टैटू आर्टिस्ट बनने के लिए वह रोजाना 5-6 घंटे अभ्यास करते हैं। वह एक मीडियम क्लास फैमिली से ताल्लुक रखते हैं। यही वजह है कि उनके माता-पिता ने बहुत मुश्किल से टैटू आर्टिस्ट बनने की इजाजत दी। इस क्षेत्र में बेहतर परफॉर्म करने के लिए उन्होंने 2018 में अलीगढ़ में एक स्टूडियो में ज्वाइन किया था। वहां उन्होंने टैटू बनाने की ट्रेनिंग ली। साल 2020 में वो टैटू के क्षेत्र में बेहतर ट्रेनिंग के लिए मुंबई चले गए। वह मुंबई के एक निजी स्टूडियो में काम सीखने के मकसद से ट्रेनी बन गए। उस स्टूडियो में विराट कोहली समेत कई सेलिब्रिटीज के टैटू बनाए जाते हैं। ट्रेनिंग के दौरान वह फ्रीलांसिंग टैटू आर्टिस्ट का भी काम करते रहे और घर-घर जाकर लोगों के टैटू डिजाइन करते रहे। अप्रैल 2021 में कोरोना की दूसरी लहर ने कहर ढाया तो मुंबई में लॉकडाउन लग गया और वह मई में अलीगढ़ वापस आ गए।
ये है सपना 
रचित कहते हैं इससे उनके हौसले नहीं टूटते हैं। कोरोना के दौर में ही उन्होंने विश्व रिकॉर्ड अपने नाम किया है। अब मेरा सपना दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम, मुंबई और गोवा में खुद का स्टूडियो खोलना है, लेकिन वो पहला टैटू स्टूडियो होम टाउन अलीगढ़ में ही खोलना चाहते हैं। रचित कहते हैं कि वह हर काम को बारीकी से सीख रहे हैं। भारत में टैटू डिजाइन का चलन तेजी से बढ रहा है। इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि देखते ही देखते यह एक बड़ी इंडस्ट्री में तब्दील हो चुकी है। इस इंडस्ट्री की सालाना रेवेन्यू करीब 20 हजार करोड़ के पार है। अभी इस बिजनेस में गोवा, मुंबई, गुड़गांव के प्रोफेशनल्स की हिस्सेदारी ज्यादा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *